शनिवार, 2 अक्तूबर 2021

काश रिश्ते कच्ची मिट्टी-सा होते!

टूटते रिश्तों को 
बचावूं कैसे? 
रेत से बिखर रहे 
संभालू कैसे? 
कड़वे सच छीन रहे 
रिश्ते मुझ से! 
झूठ बोलने का 
हुनर लाऊं कैसे!? 
यादों की दलदल से 
बाहर आऊं कैसे? 
भावनाओं के सागर से 
गलतफहमियों के
घड़ियालों को 
निकालूं कैसे? 
काच-से हो रहे रिश्ते 
कच्ची मिट्टी सा 
बनाऊँ कैसे? 
काश! 
रिश्ते काच-सा 
न होकर, 
कच्ची मिट्टी-सा होते! 
जिससे इक नया 
आकार दे सकते! 

            
             तस्वीर गूगल साभार से



25 टिप्‍पणियां:

  1. रिश्तें-रिश्तेदारों कि इक अनुठी सी होड़ है
    अंधों कि वस्ती में उजालों कि शोर है ।

    इसे देखें और प्रतिक्रिया दें - "रिश्तों कि खनक ! "

    अति नन्हीं सी सुंदर रचना!

    जवाब देंहटाएं
  2. और इसे भी देखें - "रिश्तों कि मनमोहक खुशबू ... ! "

    जवाब देंहटाएं
  3. भावनाओं के सागर से
    गलतफहमियों के
    घड़ियालों को
    निकालूं कैसे?

    वाह बहुत ही गहरे भाव है।
    मेरे ब्लॉग पर आने और सराहने के लिए आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. रिश्ते को
    बचावूं कैसे?
    रेत से बिखर रहे
    संभालू कैसे?
    कड़वे सच छीन रहे
    रिश्ते मुझ से!
    झूठ बोलने का
    हुनर लाऊं कैसे!?
    यादों की दलदल से
    बाहर आऊं कैसे?
    बढ़िया प्रिय मनीषा ! विरह-विगलित मन की दशा का सटीक चित्रण | हार्दिक शुभकामनाएं|

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतने दिन बाद एक बार फिर आपकी प्रतिक्रिया देख कर बहुत खुशी हुई! आपका बहुत बहुत धन्यवाद🙏

      हटाएं
  5. बहुत सुंदर भावपूर्ण कविता।

    जवाब देंहटाएं
  6. आपकी लिखी रचना  ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" सोमवार 04 अक्टूबर 2021 को साझा की गयी है....
    पाँच लिंकों का आनन्द पर
    आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को पांच लिंकों में सामिल करने के लिए आपका बहुत
      बहुत धन्यवाद 🙏💕

      हटाएं
  7. सत्य कहा ,सुन्दर भावाभिव्यक्ती

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत सृजन, भावपूर्ण पंक्तियां

    जवाब देंहटाएं
  9. रिश्ता की कड़ियां बुनती धुनती सुंदर कृति ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रतिक्रिया के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद और आभार

      हटाएं
  10. जीवन की कड़वी सचाई है यह... बहुत सुंदर सृजन।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  11. घड़ियालों को
    निकालूं कैसे?

    वाह बहुत ही गहरे भाव है मनीषा अद्भुत सृजन..
    फुर्सत मिले तो कभी ब्लॉग पर भो आये
    शब्दों की मुस्कुराहट
    https://sanjaybhaskar.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं

दांस्ता-ए- जिन्दगी

जब जिंदगी सपनों  से पहले  पूरी होने वाली होती है,  तब सपने नहीं,  सिर्फ ख्वाहिशे  पूरी करने की चाह रहे जाती है!  जब जिंदगी पेड़ ...