रविवार, 19 सितंबर 2021

पौधा प्रेम का

तस्वीर गूगल से
प्रेम का वो पौधा 
हृदय तल में, 
आज भी लगा है! 
कभी मुरझाया, 
तो कभी हरा-भरा है! 

इक कोने में वो आज भी, 
यही उम्मीद लिए खड़ा है! 
कि पड़ेगी कभी 
उसकी की नज़र मुझ पर, 
फिर प्रेम रूपी अमृत से मिलेगा, 
मुझे इक नया जीवन! 

निकलेगी नई शाखाएँ 
और नई पत्तियाँ, 
फिर से खिल उठेगी 
मुरझाई हुई कलियाँ! 
जो महका देगी ,
हृदय तल की सभी गलियां! 

जो ले कर आयेगी, 
मेरे कष्ट भरे जीवन में खुशियाँ!
इसी आश में वो आज भी खड़ा है, 
कभी मुरझाया, 
तो कभी हरा- भरा है! 

34 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम का अंकुर
    मन कि उर्वर माटी में
    दबा रहता है
    प्रियतम के मन के
    ऋतुओं के अनुरूप ही
    उसका पल्लवन
    सदा रहता है।
    कभी मरता नहीं
    वो बीज
    स्मृतियों की कोख में
    हरा रहता है।
    -----
    अति भावपूर्ण सुंदर सृजन प्रिय मनीषा।
    सस्नेह।

    जवाब देंहटाएं
  2. यह कविता, यह अभिव्यक्ति, यह भाव; निश्चय ही बहुत प्रशंसनीय है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका तहेदिल से बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सर मेरा हौसला बढ़ाने के लिए🙏🙏

      हटाएं
  3. बहुत सुंदर कविता। मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह , भावपूर्ण खूबसूरत अभिव्यक्ति ।।

    जवाब देंहटाएं
  5. आस प्रेम में पल्लवित होती है। सुन्दर अभिव्यक्ति।

    जवाब देंहटाएं
  6. प्रिय मनीषा, प्रेम का पौधा कभी नहीं मुरझाता बिना खाद-पानी के भी वो आजीवन हरा भरा ही रहता है,

    बहुत ही सुंदर रचना के लिए ढेर सारा स्नेह तुम्हें

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी प्यारी और स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए आपका सहृदय धन्यवाद🙏💕

      हटाएं
  7. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (21-9-21) को "बचपन की सैर पर हैं आप"(चर्चा अंक-4194) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा




    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को चर्चा मंच में जगह देने के आपका तहेदिल से बहुत बहुत धन्यवाद प्रिय मैम 💜❤🙏🙏🙏🙏

      हटाएं
  8. जरूरी नहीं हमेशा गंभीर ही रहा जाये , प्रयोग करने के लिए स्नेह और प्रेम भी सुंदर विषय है। धन्यवाद !

    ह्दय को छुने वाली रचना | सुंदर !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका दिल की गहराइयों से बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सर🙏🙏🙏🙏

      हटाएं
  9. भावसिक्त सृजन । अति सुन्दर ।

    जवाब देंहटाएं
  10. पौधा हो या प्रेम जब तक उसको बराबर खाद-पानी मिलेगा वह लहलहाता रहेगा, चटक धूप हो या कड़क ठण्ड प्यार का छाँव ही उसे बचाये रखता है , जिन्दा रखता है

    बहुत सुन्दर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद🙏💕

      हटाएं
  11. गहन लेखन, लिखती जाओ...। आनंद की अनुभूति अवश्य होगी। खूब बधाई

    जवाब देंहटाएं
  12. इक कोने में वो आज भी,
    यही उम्मीद लिए खड़ा है!
    कि पड़ेगी कभी
    उसकी की नज़र मुझ पर,
    फिर प्रेम रूपी अमृत से मिलेगा,
    मुझे इक नया जीवन!
    बस इसी आस में ये प्रेम का पौधा हरियाता रहता है...पर उसकी नजर का इंतजार करने से बेहतर होगा उसकी नजर के सामने हो ...वह देखे या उसे दिखाया जाय...
    बहुत ही सुन्दर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल की गहराईयों से आपका बहुत बहुत धन्यवाद🙏

      हटाएं
  13. आशा अमर है जिसकी आराधना कभी निष्फल नहीं होती। प्रेम के पथ पर उम्मीदों का दीया जलाती रचना। महादेवी के शब्दों में 'प्रियतम का पथ आलोकित कर, मधुर-मधुर मेरे दीपक जल।' बहुत सुंदर रचना। बधाई और आभार। माँ सरस्वती की कृपा बनी रहे।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी सकारात्मक प्रतिक्रिया देने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय सर!

      हटाएं
  14. निकलेगी नई शाखाएँ
    और नई पत्तियाँ,
    फिर से खिल उठेगी
    मुरझाई हुई कलियाँ!
    जो महका देगी ,
    हृदय तल की सभी गलियां!
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह क्या बात है!! आपने बहुत उम्दा लिखा है...बधाई

    जवाब देंहटाएं

दांस्ता-ए- जिन्दगी

जब जिंदगी सपनों  से पहले  पूरी होने वाली होती है,  तब सपने नहीं,  सिर्फ ख्वाहिशे  पूरी करने की चाह रहे जाती है!  जब जिंदगी पेड़ ...