शनिवार, 20 मार्च 2021

मंजिल की ओर

 करना है तुझे अपने सपने साकार, 

जज्बा है तुझ में

मत डर इन छोटी छोटी कठिनाइयों से

अभी तो तूफानों से लड़ना है तुझे! 

मत दे ध्यान इन बातों पर, 

कि कौन हंस रहा तुझ पर! 

छूना है हर उचाईयों को, 

ये काबिलियत है तुझ में! 

क्यों? भागता है, इन मामुली चिंगारियों से

अभी तो सुलगते अंगारों पर चलना है तुझे! 

मत हार हिम्मत अपनी, 

कर पूरी ख्वाहिश अपनी! 

तभी तो मिलेगी तुझे पहचान असली! 

कोशिश करके तो देख, 

मिलेंगी राहें अनेक! 

रख भरोसा खुद पर, 

आज पी ले सभी गमों को! 

मिटा दें सभी कुप्रथाओं को, 

और ला अपने होठों पर इक सच्ची मुस्कान! 

बना ले अपनी इक अलग पहचान, 

और दूसरों के लिए मिसाल! 

 (यह मेरी पहली कविता है जो की मैंने 15 वर्ष की उम्र 2016 में लिखी थी! जब मैं ठोड़ी अवसाद ग्रसत थी और सबसे दूर एक कमरे में बंद रहती थी) 

  कविता दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं एवं ढेर सारी बधाई🎉🎊🎉🎊🎉🎊

26 टिप्‍पणियां:

  1. इतनी छोटी उम्र में इतनी गहराई थी आपके ख़यालात और जज़्बात में ! बहुत ख़ूब ! जो आपने तब सोचा था, महसूस किया था; उम्मीद है कि आप उसी राह पर चलती होंगी ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद और आभार 🙏🙏🙏🙏

      हटाएं
  2. बहुत अच्छी कविता लिखी आपने। अवसाद के पलों में हमारा 'मैं' ही हमारा सबसे बड़ा शुभचिंतक होता है।

    जवाब देंहटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार ( 22-03 -2021 ) को पत्थर से करना नहीं, कोई भी फरियाद (चर्चा अंक 4013) पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है।

    चर्चामंच पर आपकी रचना का लिंक विस्तारिक पाठक वर्ग तक पहुँचाने के उद्देश्य से सम्मिलित किया गया है ताकि साहित्य रसिक पाठकों को अनेक विकल्प मिल सकें तथा साहित्य-सृजन के विभिन्न आयामों से वे सूचित हो सकें।

    यदि हमारे द्वारा किए गए इस प्रयास से आपको कोई आपत्ति है तो कृपया संबंधित प्रस्तुति के अंक में अपनी टिप्पणी के ज़रिये या हमारे ब्लॉग पर प्रदर्शित संपर्क फ़ॉर्म के माध्यम से हमें सूचित कीजिएगा ताकि आपकी रचना का लिंक प्रस्तुति से विलोपित किया जा सके।

    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।

    #रवीन्द्र_सिंह_यादव

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! मनीषा जी ,बेहतरीन सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  5. स्वयं को मजबूत करने का प्रयास । सार्थक अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुंदर है स्वयं मनोबल अति आवशयक।
    हार्दिक बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह, 15 वर्ष की उम्र में इतनी सुंदर कविता 'मंज़िल की ओर' लिखना ही अपने आप में कमाल है! आप इसी तरह से लिखती रहिए, हम सब आपके साथ हैं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 🙏🙏🙏🙏🙏आपका बहुत बहुत धन्यवाद और आभार 🙏🙏🙏🙏🙏

      हटाएं
  8. वाह! मनीषा। होनहार बिरवान के होत न चिकने पात!!आप काफी आगे बढ़े। ढेर सारी शुभकामनाएं!!!

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. 🙏🙏🙏🙏धन्यवाद सर🙏🙏🙏🙏आपका बहुत बहुत आभार 🙏🙏

      हटाएं

मंजिल की ओर

  करना है तुझे अपने सपने साकार,  जज्बा है तुझ में मत डर इन छोटी छोटी कठिनाइयों से अभी तो तूफानों से लड़ना है तुझे!  मत दे ध्यान ...