शुक्रवार, मई 28, 2021

अब इस अनोमल जिंदगी को यूँ ही नहीं गवाना

तस्वीर गूगल से


                     क्या कसूर है हमारा ? 
             क्यों कैद भरी जिंदगी जीने पर 
               मजबू़र कर रहा ये जमाना ? 
                   बता दे हमे ऐ जमाना ? 
         क्या लड़कियाँ नहीं जीत सकती जंग ?
                   भूल गए क्या वो अतीत ?
                झाँसी की मर्दानी की जीत ! 
                      कहाँ की है ये रीत ?
             कि लड़कियों को रखो घरों में कैद, 
                       किसने बनाई ये रीत ? 
                यदि तुम लोगों की यही है नीत, 
                तो अब तुम्हारी हार है नजदीक |
            अब कान खोल कर सुन ले ऐ जमाना |
                       इन चार दिवारियों को, 
                     तोड़ने का हमने है ठाना |
           अब नहीं रोक सकता हमे ऐ जमाना |
            अभी तक हमने तुम्हारा कहना माना , 
               तुम्हारें हर जुर्म को सहना चाहा , 
                पर अब इस अनोमल जिंदगी को
                         यूँ ही नहीं गवाना | 
               किसी भी लड़की की ख्वाहिशों को 
                    नहीं दफना सकता ऐ जमाना!
                     सदियों से दबी है जो आवाज़ , 
             उसे ज्वालामुखी के रुप मे है बाहर लाना |
                  अब इस जमाने को धूल है चटाना |
                  कलम को है अपनी ताकत बनाना |
                             जिंदगी जीने का  

                   असली मकसद अब है जाना |


16 टिप्‍पणियां:

  1. नारी अस्मिता का उदबोधन करती एक सार्थक कविता!!!!

    जवाब देंहटाएं
  2. स्त्री विमर्श का आगाज करती सार्थक रचना, बहुत बहुत शुभकामनाएं प्रिय मनीषा ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद और आभार 🙏🙏

      हटाएं
  3. This is real free voice. Amazing👍👍👍👍👍

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत मुश्किल है बेड़ियों को तोड़ना। स्त्री कम जिम्मेदार नहीं

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ सर आप सही कह रहें हैं बहुत मुश्किल तो है पर नामुंकिन नहीं यदि किसी गाँव या मोहल्ले की एक लड़की बेड़ियों को तोड़ कर आगे बढ़ती है तो अपने पीछे सारी लड़कियों के लिए रास्ते खोल देती है!

      हटाएं
  5. उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत धन्यवाद और आभार 🙏🙏

      हटाएं
  6. Amazing post .
    You can do it.👍👍👍👍👍👍👍

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह बेहतरीन सृजन

    जवाब देंहटाएं
  8. क़लम को अपनी ताक़त बनाइए और हिम्मत के साथ आगे बढ़िए। आपका जज़्बा यही रहना चाहिए - 'हम ख़ाकनशीनों की ठोकर में ज़माना है'।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका बहुत बहुत आभार और हृदय तल से धन्यवाद सर🙏🙏🙏🙏🙏

      हटाएं

रो रही मानवता हँस रहा स्वार्थ

नीला आसमां हो गया धूमिल-सा बेनूर और उदास,  स्वच्छ चाँदनी का नहीं दूर तक  कोई नामों निशान। रात में तारों की मौजूदगी के  बचें नहीं...