शनिवार, फ़रवरी 19, 2022

तेरे बिन अधूरी सी

तुम्हारा आना,बसंत के आने जैसा था।
इस बंजर-सी जिंदगी में उम्मीद का 
पौधा लग जाने जैसा था।
तुम्हारे द्वारा मेरा हौसला बढ़ाना 
रब़ी की फसलों पर हुई 
बारिश की मोती-सी बूदों-सा था।
वो नयनों का लजाना, 
बिना कहे बहुत कुछ कह जाना।
जो शब्दों में न बयां हो सकें 
वो एहसास दे जाना।
बिना छुए ही तुम्हारी आंखों का 
मुझको हर बार छू जाना, 
काले मेघ-सी भौंह की छांह में डूब जाना, 
प्रीत नगर की गलियों में 
तुम्हारे इत्र का हवाओं में घुल जाना
बहुत याद आता है वो गुजरा जमाना
आसां नहीं होता है    
यादों के गलियारों से निकल पाना।
जब मंजिलें अलग थी तो
राहें कब तक एक रहतीं।
एक न एक दिन तो अलग होना ही था।
ये सच है कि कभी हम थे हमराही
पर एक न एक दिन तो 
खानाबदोश में ठहरना ही था।
इश्तिहार से कहा महफिलें सजती।
महफ़िलें तो शायरियों से सजायी जाती है
इश्तिहार को एक न एक दिन तो भूल जाना ही था।
कितनी शामें गुज़र गयीं,कितने मौसम गुज़र गयें, 
तू भी बड़ी दूर है निकल गया, 
पर मैं आज भी वहीं खुद को खड़ा पाती हूँ।
तेरे बिना मैं खुद को अधूरा पाती हूँ
          अब मैं दिल से नहीं,सिर्फ लबों से ही मुस्कराती हूँ।

पहली बार किसी और के भावों को महसूस करके अधूरें प्रेम को अपने शब्द के माध्यम से बयां करने की कोशिश की है! 


34 टिप्‍पणियां:

  1. मनीषा, कविता के शुरवात में लगा कि कहीं मेरी मनीषा को किसी से प्यार तो नहीं हो गया? बाद में लगा कि अरे ब्रेक अप भी हो गया! लेकिन अंत में तुम्हारी टिप्पणी की किसी और के मनोभावों...तो दिल को थोड़ी तसल्ली हुई।
    किसी और के मनोभावों को भी बहुत सुंदर तरीके से व्यक्त किया है तुमने।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसीलिए तो अंत में टिप्पणी कर दी थी अपनी खुद की😄😄
      प्यार-व्यार से दूर ही रहना चाहती हूँ बड़े पंगे हैं इसमें😅😅😄
      जब होता तो लोग हवा में उड़ने लगतें हैं लेकिन जब ब्रेक अप होता है तो पैरों तले जमीन खिसक जाती है!
      पहले आज मैं ऊपर आसमां नीचे..
      बाद में जग सूना सूना लागे...! 😆
      वैसे ये मेरी दोस्त की भावनाएं हैं जिसके साथ लगभग चार साल पहले ऐसा हुआ था पर आज भी वो निकल नहीं पाई है उस यादों के दल दल से! अब उसे लड़कें शब्द से भी नफ़रत हो गयी है!😢 मुझे कुछ ही महीने पहले पता चला!
      पहले तो मैंने वो शब्द का इस्तेमाल किया था पर बाद में सोचा चलो इस बार वो की जगह पर मैं का इस्तेमाल करती हूंँ! दूसरा कारण ये भी था कि वो से रचना वैसी नहीं बन पा रही थी जैसा मैं चाह रही थी!
      प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत धन्यवाद🙏🙏

      हटाएं
    2. उम्मीद करतीं हूँ अब आपकी सारी दुविधा दूर हो गई होगी प्रिय दी!❤

      हटाएं
  2. उम्मीद की जमीन पर खड़े प्रेम के पांव के नीचे की जमीन जब खिसक जाती है, तो वह अधूरे प्रेम की आस में भटकने लगता है.
    यह आस ही उसे जिंदा रखती है.
    अधूरे प्रेम से गुजरते समय की मनोदशा का बेहतरीन चित्रण
    शानदार रचना
    बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" पर रविवार 20 फ़रवरी 2022 को लिंक की जाएगी ....

    http://halchalwith5links.blogspot.in
    पर आप सादर आमंत्रित हैं, ज़रूर आइएगा... धन्यवाद!

    !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को 5 लिंको में शामिल करने के लिए आपका तहे दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय सर🙏

      हटाएं
  4. रब़ी की फसलों पर हुई
    बारिश की मोती-सी बूदों-सा था।
    वो नयनों का लजाना,
    बिना कहे बहुत कुछ कह जाना।


    प्रेमपूर्ण कविता

    जवाब देंहटाएं
  5. मनीषा, सुन्दर भावपूर्ण कविता !
    कैसी भी कविता लिखने की कोशिश कभी मत करना.
    कविता की रचना तभी करो, जब तुम्हारे ह्रदय में भावों का ज्वार उठे.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी सर,मैं ऐसा दुबारा कभी नहीं करूंगी!
      आप मेरे लिए गुरु समान हैं!
      वैसे भी आप तो अध्यापक हैं और मैं विद्यार्थी वर्तमान में तो इस नाते भी गुरु का कहना मानना हमारा फर्ज है!😊
      आपका तहेदिल बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय सर🙏

      हटाएं
  6. बहुत सुंदर तरीके से भावों को सजाने की सराहनीय कोशिश ।
    भावपूर्ण अभिव्यक्ति ।

    जवाब देंहटाएं
  7. टूटे दिल के मनोभावों की बहुत सुंदर अभिव्यक्ति
    ! प्रेम की अमरता उसके अधूरेपन में ही निहित है। इसी सच को बहुत अच्छी तरह अभिव्यक्त किया गया है। साधुवाद!--ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. तहेदिल से बहुत बहुत धन्यवाद व आभार आदरणीय सर🙏

      हटाएं
  8. बहुत ही सुंदर हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति प्रिय मनीषा जी।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  9. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (22-2-22) को "प्यार मैं ही, मैं करूं"(चर्चा अंक 4348)पर भी होगी।आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को चर्चामंच में शामिल करने के लिए आपका तहे दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद प्रिय मैम🙏

      हटाएं
  10. प्रिय मनीषा, अधूरे प्रेम की पीड़ा को दर्शाती भावपूर्ण अभिव्यक्ति। सम्भवतः हर रिशते की एक उम्र होती है। शायद प्रेम की नियति में ही अधूरापन लिखा है। एक मार्मिक शब्दचित्र जो प्रेम में असफल प्रेयसी के मनोभावों की सुन्दर अभिव्यक्ति है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनोबल संवर्धन करती उपस्थिति के लिए हृदय से असीम धन्यवाद प्रिय मैम🙏

      हटाएं
  11. तुम्हारा आना,बसंत के आने जैसा था।
    इस बंजर-सी जिंदगी में उम्मीद का
    पौधा लग जाने जैसा था।
    तुम्हारे द्वारा मेरा हौसला बढ़ाना
    रब़ी की फसलों पर हुई
    बारिश की मोती-सी बूदों-सा था।
    वो नयनों का लजाना,

    अति सुंदर सृजन------

    जवाब देंहटाएं
  12. अरे वाह!प्रिय मनीषा ये अलहदा रूप है आपकी लेखनी का यथार्थ की धरातल से विरह श्रृंगार की कल्पना तक का संसार
    बहुत सुंदर है ,आपके मिज़ाज से अलग होते हुए भी सुंदर प्रयास ।
    सुंदर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय मैम 🙏

      हटाएं
  13. सखी से अपनत्व और संवेदना इतनी होती है कि उसका हर सुख दुख अपना सा लगता है तभी तो उसके अधूरे प्रेम को आपने इतनी संवेदना से लिखा कि लगता नहीं कि ये गैरों का दर्द है
    लाजवाब सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर सृजन, बधाई मनीषा जी, जय श्री राधे।

    जवाब देंहटाएं

रो रही मानवता हँस रहा स्वार्थ

नीला आसमां हो गया धूमिल-सा बेनूर और उदास,  स्वच्छ चाँदनी का नहीं दूर तक  कोई नामों निशान। रात में तारों की मौजूदगी के  बचें नहीं...